Shiv Shakti

मंगलवार के उपाय: वैदिक ज्योतिष में शक्तिशाली उपाय

मंगलवार के उपाय: वैदिक ज्योतिष में शक्तिशाली उपाय वैदिक ज्योतिष में, हर सप्ताह के दिन का महत्व होता है, जिसमें सम्मानित ग्रहों को संतुष्ट करने के लिए अपने विशेष उपाय और उपचार होते हैं। इनमें से एक, मंगलवार या मंगलवार विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि यह भगवान मंगल, ग्रह मंगल को समर्पित होता है। अपनी जन्म कुंडली में मंगल को मजबूत करना वीरता, ऊर्जा और संकल्प को लाने में मदद कर सकता है। यहाँ कुछ शक्तिशाली उपाय और प्रथाएं हैं जो मंगलवार के सकारात्मक ऊर्जा को उत्तेजित करने में मदद कर सकते हैं: लाल वस्त्र पहनें: सुबह की नियमित शौच और ध्यान के बाद, लाल रंग के कपड़े पहनें। लाल रंग मंगल की आग की ऊर्जा को प्रेरित करता है और इसे पहनने से ग्रह के प्रेरणात्मक प्रभाव को आमंत्रित किया जाता है। सूर्य देव को अर्घ्य अर्पित करें: एक तांबे के पात्र में पानी भरें और इसमें कुमकुम डालें। पूर्व की दिशा की ओर मुख करके, इस पानी को सूर्य देव को अर्घ्य के रूप में अर्पित करें। इस क्रिया से मंगल और सूर्य दोनों ग्रह को जन्म कुंडली में मजबूत किया जाता है। हनुमान जी की पूजा करें: सुबह के उपायों के बाद, हनुमान जी की विशेष पूजा करें, जो शक्ति, साहस, और भक्ति का प्रतीक है। हनुमान चालीसा और सुंदरकांड का पाठ करना बहुत शुभ माना जाता है। हनुमान जी को बेसन के लड्डू अर्पित करें। मंगल की कमजोरी को दूर करें: अगर आपकी जन्म कुंडली में मंगल कमजोर है, तो मंगलवार को विशेष पूजाओं और उपायों का पालन करें। साथ ही, जरूरतमंदों को लाल रंग के कपड़े, गर्म कपड़े, लाल मिर्च, और मसूर दाल का दान करें। मंगलवार का व्रत (मंगलवार की उपवास): अशुभ ग्रहों के गलत प्रभाव को कम करने के लिए, मंगलवार को उपवास का आयोजन करें, विशेषकर खरमास के बाद से। यह उपाय आमंत्रित करता है कि 21 मंगलवार की कम से कम उपवास किया जाए। इस प्रथा के माध्यम से जनमंगल प्राप्त होता है और साधक के मनोरथ सिद्ध होत

वैदिक ज्योतिष में, हर सप्ताह के दिन का महत्व होता है, जिसमें सम्मानित ग्रहों को संतुष्ट करने के लिए अपने विशेष उपाय और उपचार होते हैं। इनमें से एक, मंगलवार या मंगलवार विशेष रूप से महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि यह भगवान मंगल, ग्रह मंगल को समर्पित होता है। अपनी जन्म कुंडली में मंगल को मजबूत […]

सूर्य:मुंह में लार बनना और बार-बार थूकना।

सूर्य:मुंह में लार बनना और बार-बार थूकना। आज हम जानेंगे कि बिना कुंडली के जानने के लिए ग्रहों की दुर्बलता की कुछ निशानियाँ हो सकती हैं। इन सभी को जानकर आप यह पता लगा पाएंगे कि दैनिक जीवन में क्या संकेत आपको आपके ग्रह के प्रभाव को प्रदर्शित करते है| चन्द्र: मन में व्यथा और […]

केतु चलेंगे उल्टी चाल, ये राशियां हो जाएंगी मालामाल़

केतु चलेंगे उल्टी चाल, ये राशियां हो जाएंगी मालामाल़ कुंभ राशि में स्थित केतु का आकस्मिक धन लाभ पर प्र ज्योतिष में आकाशीय ग्रहों की चाल हमारे जीवन के विभिन्न पहलुओं पर गहरा प्रभाव डालती है, और कुंभ राशि में स्थित केतु का स्थान इस संदर्भ में महत्वपूर्ण है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम देखेंगे […]

“जन्म तिथि और समय के आधार पर हिंदी ज्योतिष: व्यक्तिगत दिशा और भविष्य की पहचान”

“जन्म तिथि और समय के आधार पर हिंदी ज्योतिष: व्यक्तिगत दिशा और भविष्य की पहचान” ज्योतिष, हमारे जीवन को व्यक्तिगतीकरण करने का एक यह अनोखा तरीका है जिसमें जन्म तिथि और समय का खास महत्व होता है। इस लेख में, हम देखेंगे कि कैसे “जन्म तिथि और समय के आधार पर हिंदी ज्योतिष” व्यक्त के […]

भारतीय विवाहों में कुंडली मिलान का महत्व|by Astrologer Veerendra Verma

जब राहु और मंगल नवें घर में कुंडली मिलान, जिसे हॉरोस्कोप मिलान भी कहा जाता है, एक प्रथा है जो भारतीय संस्कृति में गहराई से निहित है, खासकर जब विवाहित निर्णयों की बात होती है। इस प्राचीन परंपरा में, संभावित साथीयों की जन्म कुंडलियों को तुलना करने का प्रक्रिया शामिल है ताकि संगतता की जांच […]

शुक्र + गुरु युति फल The Dynamics of Guru and Shukra Planets: A Reflection of Life’s Contrasts

शुक्र + गुरु युति फल The Dynamics of Guru and Shukra Planets: A Reflection of Life’s Contrasts the planets Guru (Jupiter) and Shukra (Venus) hold distinctive places due to their contrasting characteristics and effects on individuals. In this article, we dive into the relationship between Guru and Shukra and how they shape various aspects of […]

वृंदावन के अनोखे बाके बिहारी – श्रीकृष्ण का निधिवन

वृंदावन के अनोखे बाके बिहारी – श्रीकृष्ण का निधिवन वृंदावन, भगवान श्रीकृष्ण के भक्तों के लिए सदैव प्रिय है। इस पावन नगर में एक ऐसा स्थल है, जिसे ‘निधिवन’ के नाम से जाना जाता है, जो भगवान के महारास का उपवन था। इस ब्लॉग में, हम आपको निधिवन के अनुपम महत्व और वहां के बिहारी […]

निधिवन|निधिवन का रहस्य|निधिवन की सच्ची कहानी|निधिवन खुलने का समय निधिवन में किसकी मृत्यु हुई|बांके बिहारी मंदिर से निधिवन की दूरी”

निधिवन|निधिवन का रहस्य|निधिवन की सच्ची कहानी|निधिवन खुलने का समय निधिवन में किसकी मृत्यु हुई|बांके बिहारी मंदिर से निधिवन की दूरी” आज के ब्लॉग में मै आपको (निधिवन|निधिवन का रहस्य|निधिवन की सच्ची कहानी|निधिवन खुलने का समय निधिवन में किसकी मृत्यु हुई|बांके बिहारी मंदिर से निधिवन की दूरी”) के बारे में जानकारी दूंगा निधिवन एक छोटे से […]

रुक्मणी ने कन्हैया से पूछा स्वामी आप अपने मित्र सुदामा को देखकर इतने भाव और क्यों हो गए तो द्वारकाधीश ने कहा

रुक्मणी ने कन्हैया से पूछा स्वामी आप अपने मित्र सुदामा को देखकर इतने भाव और क्यों हो गए तो द्वारकाधीश ने कहा और जैसे ही द्वारकाधीश ने तीसरी मुट्ठी चावल उठा कर फाँक लगानी चाही, रुक्मिणी ने जल्दी से उनका हाथ पकड़ कर कहा, “क्या भाभी के लाये इन स्वादिष्ट चावलों के स्वाद का सारा […]

जब राहु और मंगल नवें घर में

जब राहु और मंगल नवें घर में वैदिक ज्योतिष के अनुसार कुंडली के नवें घर से गुरु, देवता, भाग्य, उत्तम कर्म, जंघा, ग्रैंडसन का विचार करें | इसे त्रिकोण और भाग्य भाव भी कहा जाता है | और विस्तार से बात करें तो धर्म में रूचि, लम्बी दूरी की यात्रा , उच्च शिक्षा, अध्यात्म एवं […]